ड्यूटी | लघुकथा | रत्ना सिंह

short-story-ye-kya-in-hindi

ड्यूटी | लघुकथा | रत्ना सिंह तुम्हारा ही घर है बेटा एक बार नहीं अनेक बार कहती हैं फिर भी पता नहीं जैसे ही फोन आता श्रेया तुम बाहर जाओ, थोड़ी देर में बुला लूंगी।अभी जरा व्यक्तिगत बात करनी है।ये व्यक्तिगत बात क्या होती है श्रेया ने हमेशा से यही सुना और देखा की व्यक्तिगत … Read more

Biography of Poet Pradeep Maurya | प्रदीप मौर्या का जीवन परिचय

Biography of Poet Pradeep Maurya | प्रदीप मौर्या का जीवन परिचय जीवन परिचय (1999-अब तक) आईए जानते है प्रदीप मौर्य का प्रदीप प्यारे तक सफ़र मै आपको बताता चलूँ कि प्रदीप मौर्य का जन्म 1999 को उत्तरप्रदेश के जिला रायबरेली के कैड़ावा नामक गाँव में हुआ था इनके पिता का नाम श्रीपाल मौर्य जो कृषक … Read more

हिमाचल की भीमाकाली और सराहन / आशा शैली

हिमाचल की भीमाकाली और सराहन / आशा शैली हिमाचल प्रदेश का मन्दिरों और देवस्थानों से ओत-प्रोत अपूर्व प्राड्डतिक दृश्य है मन को आनन्द से भर देने वाला। नीचे-ऊपर पहाड़ ही पहाड़, झरने, नदियाँ, चारों ओर पिघलती बर्फ लेकर पर्वत शृंखलाएँ ऐसी, जैसे ईश्वर कुछ संदेशा लिखकर लोगों तक पहुँचाने की कोशिश कर रहे हैं। ऐसी … Read more

उड़ मन पाखी | पुस्तक समीक्षा | विजया गुप्ता | रश्मि लहर

उड़ मन पाखी – कविता संग्रहकवयित्री – विजया गुप्तासहज प्रकाशन113- लालबाग गांधी कालोनी, मुजफ्फरनगरप्रथम संस्करण – 2019मुद्रक : पब्लिश प्वाइंट – मुजफ्फरनगरमूल्य : 300 रूपये सौम्य, सहज और सरल व्यक्तित्व की स्वामिनी आदरणीय विजया गुप्ता दीदी की पुस्तक ‘उड़ मन पाखी’ पढ़ने का सुखद अवसर मिला | 48 अविस्मरणीय कविताओं का संग्रह, जिसमें प्ररोचना के … Read more

इंटरव्यू | गुलशेर अहमद | Hindi Short Story

कुछ दिनों पहले मैं एक इंटरव्यू देने गया था। जब हम इंटरव्यू के लिए जाते हैं तो बहुत सारे लोग मिलते हैं; कुछ आपके उम्र से बड़े और कुछ छोटे भी होते हैं। सभी में समानता यही होती है कि वो बेरोज़गारी में जी रहे होते हैं और कैसे भी, नौकरी पा लेने की जुगत … Read more

हिंदी कहानी मातम / सम्पूर्णानंद मिश्र

एन०टी०पी०सी० में अभियंता पद पर पदस्थ शर्मा जी की अवस्था छप्पन की थी। बेहद चुस्त-दुरुस्त, सघन मूंछें, वाणी में मिठास, कार्य के प्रति लगन आदि गुणों ने शेष कर्मचारियों से उन्हें अलग खड़ा कर दिया था। अपने कार्य- कौशल के कारण अधिकारियों के चहेते हो गए थे। उसी पद पर पदस्थ और कर्मचारी उनकी इस … Read more

मेरी जम्मू-कश्मीर यात्रा | आशा शैली

history-of-uttarakhand-aasha-shailee

यात्राएँ करना सम्भवतया मेरा स्वभाव ही बन गया है अथवा नियति, लेकिन परिस्थितियों के उतार-चढ़ाव और देश की वर्तमान परिस्थितियों में सोच भी नहीं सकती थी कि कभी मुझे कश्मीर भी जाने का सौभाग्य प्राप्त होगा। जब से होश सँभाला है सुनती आई थी कि धरती पर कहीं स्वर्ग यदि है तो वह कश्मीर में … Read more

janamdin ka uphar-रूबी शर्मा

जन्मदिन का उपहार         कल खुशी का जन्मदिन है लेकिन वह आज ही बहुत प्रसन्न और उत्साहित है ।उसकी खुशी का ठिकाना न था क्योंकि उसके जन्मदिन में हर वर्ष उसे बहुत अच्छे-अच्छे अनेक उपहार ,कपड़े व अन्य वस्तुएं मिलती थी। बुआ ,मम्मी-पापा, दादा- दादी, चाचा -चाची ,मौसी ,मामा सब उसके लिए … Read more

बीमारी | रत्ना सिंह | लघुकथा

बीमारी | रत्ना सिंह | लघुकथा सोमवार का दिन था आफिस जाना था लेकिन तबियत कुछ ठीक नहीं लगी तो सोचा आज आराम कर लेता हूं।शाम को बतियाने शर्मा जी के यहां चला गया पंचायत चुनाव पर चर्चा हो रही थी,कि शर्मा जी का बेटा नितिन आफिस से आया। कैसा रहा आज आफिस का दिन … Read more

सविता चडडा की प्रिय कविताएं- भावपूर्ण अभिव्यक्ति और अद्भुत भावनाओं का संगम है ये काव्य संग्रह : डाॅ कल्पना पाडेंय

सविता चड्ढा के बारे में कुछ कहना छोटा मुंह बड़ी बात होगी । आप संघर्षों की एक जीता- जागता मिसाल हैं। जीवन में आपने कड़वे, खट्टे- मीठे अनुभवों को जिया है पर बांटा सिर्फ़ सुखों को है। आज बहुत ही प्रेम से, आशीर्वाद के रूप में आपने मुझे अपनी कविताओं की पुस्तक ‘ मेरी प्रिय … Read more