short poem on republic day-मेरा वतन/पुष्पा श्रीवास्तव शैली।

रायबरेली की प्रसिद्ध लेखिका पुष्पा शैली का इस गणतंत्र दिवस पर राष्ट्र को समर्पित रचना मेरा वतन short poem on republic day.इस वर्ष हम ७२ गणतंत्र दिवस हिंदुस्तान मे मनाएँगे इस वर्ष के मुख्य अतिथि  इंग्लैंड के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन होंगे  हिंदी रचनाकार के माध्यम से हिंदी भाषी लोगों के लिए  प्रस्तुत है रचना  –

मेरा वतन।

 

गीत गाकर वतन का धरा से गये,
बांकुरों को हृदय से नमन कीजिये।
छोड़िए बात नफरत की अब दोस्तों,
बैर को आग में अब दफन कीजिये।

देखना घर उजड़ने ना पाये कोई,
आंख से आँसू अब ना गिराये कोई।
बुझते चेहरे पड़े स्याह थे अब तलक,
देखना फिर ना उनको जलाये कोई।

वादियां हँस के फिर मुकुराने लगे।
सोचिये दिल से अब वो जतन कीजिये।

राखियाँ जाने कितनी वहाँ सो गयीं,
रंग सिंदूर और चूड़ियाँ खो गयीं।
माँ ने ममता लुटा दी न रोयी तनिक,
आँख लेकिन पिता की धुआँ हो गयी।

जल गयी अनगिनत बालपन की हँसी,
कैसे बच पाएंगी अब मनन कीजिए।

थक ना जाना अभी दौड़ना है तुम्हे,
मुँह नदी का अभी मोड़ना है तुम्हें।
यह प्रबल वेग है पाँव उखड़ेंगे तो,
किंतु सागर से अब जोड़ना है तुम्हे।

खिलखिलायेगा अब तो हमारा चमन,
हिन्द जय हिंद शेरे वतन कीजिये।।

short-poem-republic-day
पुष्पा श्रीवास्तव शैली

अन्य रचना पढ़े :

आपको पुष्पा श्रीवास्तव शैली की रचना short poem on republic day-मेरा वतन कैसी लगी अपने सुझाव कमेंट बॉक्स मे बताएं इससे हमारी टीम का उत्साह बढ़ता है।

 417 total views,  1 views today

Abhimanyu

मेरा नाम अभिमन्यु है इस वेबसाइट को हिंदी साहित्य के प्रचार-प्रसार के लिए बनाया गया इसका उद्देश्य सभी हिंदी के रचनाकारों की रचना को विश्व तक पहचान दिलाना है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!
× How can I help you?