Raebareli Nirala Smriti Sansthan Dalmau

डॉ.रसिक किशोर सिंह नीरज को पांच अलग-अलग संस्थाओं द्वारा भव्य समारोह में राष्ट्रीय गीतकार के रूप में उनकी प्रकाशित कृतियों पर सम्मानित किया गया।


Raebareli Nirala Smriti Sansthan Dalmau:रायबरेली निराला स्मृति संस्थान डलमऊ सहित 21 फरवरी 2021 रविवार को प्रयागराज माघ मेला में आयोजित काव्य रस परिवार द्वारा श्रेष्ठ काव्य सर्जक सम्मान तथा अवध साहित्य अकादमी द्वारा साहित्य शिरोमणि सम्मान तारिका विचार मंच द्वारा साहित्य विभूति सम्मान एवं भारतीय राष्ट्रीय पत्रकार महासंघ द्वारा साहित्यकार अभिनंदन समारोह एवं कवि सम्मेलन ग्रंथ विमोचन के अवसर पर डॉ.रसिक किशोर सिंह नीरज को पांच अलग-अलग संस्थाओं द्वारा भव्य समारोह में राष्ट्रीय गीतकार के रूप में उनकी प्रकाशित कृतियों पर सम्मानित किया गया। उक्त अवसर पर डॉ नीरज सम्मानित करने वाली सभी संस्थाओं के प्रति अपना आभार प्रकट करते हुए कृतज्ञता ज्ञापित किया तथा मां सरस्वती की कृपा और आत्मीय जनों का स्नेह पूर्ण आशीर्वाद बताते हुए अपना एक मुक्तक कवियों की महत्ता बताते हुए प्रयाग कार्यक्रम में प्रस्तुत किया—

उजाला जमाने को देता है रवि अंधेरा दिनों से मिटाता है कवि।
सुनाकर कार्यक्रम को ऊंचाईयां प्रदान किया।

कार्यक्रम संयोजक सर्वश्री डॉ. भगवान प्रसाद उपाध्याय रहे समारोह अध्यक्ष अशोक कुमार स्नेही विशिष्ट अतिथि डॉ. बालकृष्ण पांडे ,श्याम नारायण श्रीवास्तव ,डॉ.रसिक किशोर सिंह नीरज डॉ. शंभुनाथ त्रिपाठी अंशुल ,डॉ कृष्ण कुमार चतुर्वेदी मैत्रेय,दिनेश प्रताप सिंह चित्रेश, रामप्यारे प्रजापति सुल्तानपुर, आनंद सिंघनपुरी( छत्तीसगढ़) जगदंबा प्रसाद शुक्ल तथा स्वामी कल्पनेश जी, योगेंद्र कुमार मिश्र विश्वबंधु रहे मुख्य अतिथि के रुप में ज्योतिषाचार्य डॉ. रामेश्वर प्रपन्नाचार्य शास्त्री जी महाराज रहे।
मुख्य रूप से कार्यक्रम में( म. प्र.)से पधारे प्रो. परमानंद तिवारी प्राचार्य तथा डॉ.कृष्णावतार त्रिपाठी राही भदोही ,जनकवि जय प्रकाश शर्मा प्रकाश ,राम लखन चौरसिया, रामनाथ प्रियदर्शी सुमन, राकेश मालवीय मुस्कान, जगदंबा प्रसाद शुक्ल, डॉ.सीताराम सिंह विश्वबंधु ,विष्णु दत्त मिश्र प्रसून ,डॉ .राजेंद्र शुक्ल, डॉ. वीरेंद्र कुसुमाकर ,रचना सक्सेना, अभिषेक केशरवानी, बालेंदु मिश्र सारंग, आभा मिश्रा, सतीश चंद्र मिश्र चित्रकूट ,आकाश प्रभाकर उत्तराखंड आदि प्रमुखरूप से रहे।

   अन्य रचना पढ़े :

 

 

 216 total views,  3 views today

Abhimanyu

मेरा नाम अभिमन्यु है इस वेबसाइट को हिंदी साहित्य के प्रचार-प्रसार के लिए बनाया गया इसका उद्देश्य सभी हिंदी के रचनाकारों की रचना को विश्व तक पहचान दिलाना है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!
× How can I help you?