मिल्खा सिंह जीवन परिचय | Milkha Singh biography and quotes in hindi

मिल्खा सिंह जीवन परिचय | Milkha Singh biography and quotes in hindi

फ्लाइंग सिख नाम से मशहूर एथलीट  मिल्खा सिंह ऐसे खिलाडी थे जिन्होंने देश के लिए कई स्वर्ण पदक जीते , भारतीया  आर्मी में रहकर एक सफलतम धावक के रूप में विश्व में एक पहचान बनायीं।  विभाजन के दौरान अनाथ हो गए थे , लेकिन कभी न हारने का जज्बा ने उन्हें देश का एक सफलतम धावक धावक बना दिया।

milkha-singh-biography-quotes-hindi

मिल्खा सिंह जीवन परिचय | Milkha Singh biography and quotes in hindi

  • नाम –  मिल्खा सिंह 
  • जन्म –  20 नवंबर  1929
  • जन्मस्थान –   गोविंदपुरा पंजाब  (जो अब पाकिस्तान का हिस्सा हैं)
  • मृत्यु -१८ जून २०२१ (आयु ९१) चंडीगढ़, भारत
  • पत्नी का नाम – निर्मल कौर ( मृत्यु २०२१ )
  • राष्टीयता – भारतीय 
  • पुत्र का नाम – जीव मिल्खा ( गोल्फ खिलाडी )
  • संतान – ४ 
  • खेल – धावक( ट्रैक एंड फील्ड इवेंट )
  • सम्मान – एशियाई खेलो में – ४ पदक ,  राष्ट्रमंडल खेलों – १ पदक 
  • पुस्तक – आत्मकथा द रेस ऑफ़ माई लाइफ़

Milkha singh love story

मिल्खा सिंह को 1956 के खेल में ऑस्ट्रेलिया की महिला खिलाड़ी बेट्टी कथवर्ट से प्रेम हो गया था, फिर वो इस महिला खिलाड़ी से 1960 में दोबारा मिले, रिपोर्ट्स के अनुसार जब 2006 में खेलो का आयोजन  ऑस्ट्रेलिया में हुआ तो फोन उस महिला खिलाड़ी को लगाया तो उसके लड़के ने उठाया, बताया कि उसकी माँ की मौत कैंसर से हो चुकी है, मिल्खा सिंह जब गांव में रहते थे तब भी उनको वहाँ पर भी एक लड़की से प्रेम था, इसके बाबजूद उनका विवाह वालीवाल  महिला खिलाडी निर्मल कौर से हुआ था।

Milkha singh quotes in hindi

1 .अनुशासन, कड़ी मेहनत, इच्छा शक्ति… मेरे अनुभव ने मुझे इतना कठिन बना दिया कि मैं मौत से भी नहीं डरता।” लेकिन एक कहानी उनकी इच्छा को सबसे स्पष्ट रूप से दर्शाती है।

2. आप जीवन में कुछ भी हासिल कर सकते हैं। यह सिर्फ इस बात पर निर्भर करता है कि आप इसे हासिल करने के लिए कितने बेताब हैं।

3. मैं यह सोचकर आंसू बहा रहा था कि एक रात पहले मैं कुछ न होने से कुछ बन गया था।

4. जब मैं अपने जीवन पर चिंतन करता हूं, तो मैं स्पष्ट रूप से देख सकता हूं कि दौड़ने का मेरा जुनून मेरे जीवन पर कैसे हावी हो गया है। मेरे दिमाग में जो चित्र कौंधते हैं, वे दौड़ते हैं… दौड़ते हैं… दौड़ते हैं…

5. हमारे अमेरिकी कोच, डॉ. [आर्थर डब्ल्यू] हॉवर्ड, भारतीय टीम के साथ [कार्डिफ के लिए] थे ….डॉ हॉवर्ड की प्रेरणा और सलाह के कारण, मैंने गर्मी के बाद गर्मी जीती और आसानी से फाइनल में पहुंच गया।

6. इनमें से प्रत्येक क्षण कड़वी मीठी यादों को वापस लाता है क्योंकि वे मेरे जीवन के विभिन्न चरणों का प्रतिनिधित्व करते हैं, एक ऐसा जीवन जिसे मेरे चुने हुए व्यवसाय में जीत के लिए मेरे गहन दृढ़ संकल्प से बचाए रखा गया है।

7. उन्होंने इस बात पर जोर दिया कि मुझे पहले 300 मीटर तक अपनी गति बनाए रखनी चाहिए, और फिर अंतिम 100 मीटर में अपना पूरा योगदान देना चाहिए। उन्होंने कहा कि अगर मैं पहले 300 मीटर पूरी गति से दौड़ता, तो स्पेंस भी ऐसा ही करते, हालांकि यह उनकी दौड़ने की रणनीति नहीं थी।

8. मैं तब तक नहीं रुकता जब तक मैं अपने पसीने से बाल्टी नहीं भर लेता। मैं अपने आप को इतना धक्का दूंगा कि अंत में मैं गिर जाऊं और मुझे अस्पताल में भर्ती होना पड़े, मैं भगवान से प्रार्थना करूंगा कि मुझे बचाए, वादा करता हूं कि मैं भविष्य में और अधिक सावधान रहूंगा। और फिर मैं यह सब फिर से करूँगा।

9. मेरे लिए ट्रैक, एक खुली किताब की तरह था, जिसमें मैं जीवन के अर्थ और उद्देश्य को पढ़ सकता था। मैंने इसका सम्मान ऐसे किया जैसे मैं एक मंदिर के गर्भगृह में होता, जहाँ देवता निवास करते थे और जिसके सामने मैं एक भक्त के रूप में विनम्रतापूर्वक स्वयं को प्रणाम करता था। अपने लक्ष्य के प्रति दृढ़ रहने के लिए, मैंने सभी सुखों और विकर्षणों को त्याग दिया, अपने आप को फिट और स्वस्थ रखने के लिए, और अपना जीवन उस जमीन को समर्पित कर दिया जहां मैं अभ्यास और दौड़ सकता था। इस तरह दौड़ना मेरा भगवान, मेरा धर्म और मेरा प्रिय बन गया था

FAQ 

1 . मिल्खा सिंह का दूसरा नाम क्या है?

उत्तर – 1 .  फ्लाइंग सिख मिल्खा सिंह दूसरा नाम है जो पाकिस्तान के पूर्व राष्ट्रपति जनरल अयूब खान ने दिया था।

२. मिल्खा सिंह सिंह पर मूवी किस सन में आयी थी ?

उत्तर – २.  भाग मिल्खा भाग मूवी२०१३ में आयी थी , जिसका निर्देशन राकेश ओमप्रकाशमेहरा ने किया था।

3 . मिल्खा सिंह की लम्बाई कितनी है ?

उत्तर -३. मिल्खा सिंह की लम्बाई 178 सेंटीमीटर है और उनका वजन 70 kg है

अन्य पढे :

 429 total views,  1 views today

Abhimanyu

मेरा नाम अभिमन्यु है इस वेबसाइट को हिंदी साहित्य के प्रचार-प्रसार के लिए बनाया गया इसका उद्देश्य सभी हिंदी के रचनाकारों की रचना को विश्व तक पहचान दिलाना है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!