साहित्य सम्मेलन व स्मृति अंक तथा पुस्तक विमोचन

30 जनवरी को  साहित्य सम्मेलन व स्मृति अंक तथा पुस्तक विमोचन

literature-conference-memoir-book-release

रायगढ़- रायगढ़ जिला सुर,लय,ताल की नगरी तो है, साथ ही साहित्यिक गतिविधियों में भी अव्वल है। आये दिन विविध विषयों को लेकर कार्यक्रम होते रहते है इसे साहित्यिक गतिविधियों पर यहाँ के साहित्यकारों का गहरा लगाव ही कहा जायेगा। जो इतने तन्मयता और लगन से हर कार्यक्रम को श्रेष्ठ बनाने में कोई कसर नही छोड़ते। लम्बे समय से कोरोना महामारी का हम सबने यातनाएं सहीं।पर समय तो अपनी चाल से निरन्तर चलता रहता है, पूरे निर्लिप्तभाव से। निर्विकार या निर्मिमेष से बिना किसी रुकावट, आधि-व्याधि, रोग-दोष, मोह-माया, राग-द्वेष, अच्छे-बुरे की चिंता कर। दुनिया की सारे दुखों से अनजान अपनी मस्ती में, बस केवल अपने कर्म में डूबा, कितने भी उद्वेलन, खुशियाँ, अवसाद हों समय की गति में कोई अंतर नहीं पड़ता। वह तो बस चैरेवति-चैरेवति की गूँज से आगे बढ़ता ही रहता है। इस महामारी में कितने ही अपने घनिष्ठ जन इस दुनिया से अलविदा हो गए। इसी समय रायगढ़ के पर्यावरण प्रेमी व समाजसेवी रामदास अग्रवाल का दुःखद निधन हो गया। शहर में होने वाले विभिन्न कार्यक्रमों और हर दुःख-सुख में प्रत्यक्ष व अप्रत्यक्ष उनका सहयोग रहता था। उन्हीं की स्मृति में एक दिवसीय ’साहित्य सम्मेलन’ व नयी पीढ़ी की आवाज में प्रकाशित उनकी स्मृति अंक तथा पुस्तक विमोचन का कार्यक्रम नंद बाग, कोष्टापारा, नंदेश्वर मन्दिर रोड ’छत्तीसगढ़ साहित्य परिवार व नयी पीढ़ी की आवाज’ के तत्वावधान में आयोजित की गई है। उक्त कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में डॉ. विनय कुमार पाठक (शिक्षाविद, पूर्व अध्यक्ष, छ. ग.राजभाषा आयोग) और कार्यक्रम की अध्यक्षता डॉ. विनोद कुमार वर्मा (वरिष्ठ साहित्यकार), विशिष्ट अतिथि रायबरेली (उत्तरप्रदेश) से डॉ. रसिक किशोर सिंह ’नीरज’, बिलासपुर से वरिष्ठ साहित्यकार केवल कृष्ण पाठक, डॉ. ब्रजेश सिंह की उपस्थिति रहेगी। पुस्तक विमोचन की कड़ी में रायगढ़ के युवा साहित्यकार आनन्द सिंघनपुरी की किताब ’दिल की आहट’ व ’मैना के गउना’ का आमंत्रित अतिथियों के हाथों लोकार्पण होगा। उक्ताशय की जानकारी नयी पीढ़ी की आवाज परिवार से भानुप्रताप मिश्र, श्याम नारायण श्रीवास्तव, सनत व आनन्द सिंघनपुरी ने दी और बताया कि कार्यक्रम आज दिनांक 30 जनवरी दोपहर 12 बजे से आयोजित है तथा कोविड संक्रमण को ध्यान में रखते हुए मास्क लगाकर आने की अपील की है।

अन्य लेख पढ़े :

 283 total views,  1 views today

Abhimanyu

मेरा नाम अभिमन्यु है इस वेबसाइट को हिंदी साहित्य के प्रचार-प्रसार के लिए बनाया गया इसका उद्देश्य सभी हिंदी के रचनाकारों की रचना को विश्व तक पहचान दिलाना है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!
× How can I help you?