nahi badlega kuch-नही बदलेगा कुछ/सम्पूर्णानंद मिश्र

nahi badlega kuch

नहीं ‌बदलेगा कुछ


1 जनवरी 2021 को
नहीं ‌बदलेगा कुछ
कुछ ‌नया‌‌ नहीं ‌होगा
काम ‌पर जाएगा सर्वहारा वर्ग
गिट्टियां तोड़ कर ‌आएगा
अट्टालिकाओं के निर्माण हेतु
श्रमसीकर ‌बेचने के बाद
शीतलहर में ठिठुरते हुए
अपनी मुनिया के लिए
भीड़ के धक्के खाते हुए
घर लौटकर आएगा
उसकी मुंहफटी झोली में
आधा किलो ‌आटा,
एक पाव दाल
कुछ हरी मिर्च दो‌ चार आलू
और २५ ग्राम सरसों के तेल ‌से
ज्यादा कुछ नहीं होगा
उम्मीदों में ही
इन लोगों की
जिंदगी कट जायेगी
ऐसे तथाकथित
लोगों की कई पीढ़ी
इसी टकटकी में कि
नया साल आएगा
कुछ नया होगा
कुछ अच्छा हो जाएगा
कितने और नए साल
रक्त प्रवाहित
करते-करते
जांगर बेचते हुए
यमराज की हवेली‌ के ‌सामने
अपनी ‌तार-तार
चिथरी‌ कथरी बिछाएगा !
या यूं कहिए कि
नहीं दिखाई ‌देता है
स्वप्न अब इन्हें रात में सोते समय
अगर कुछ दिखाई ‌देता है ‌
तो अपने मालिक ‌की‌
केवल रक्तिम आंखें‌
भूख से छटपटाती मुनिया ‌का
धूल ‌धूसरित चेहरा
नहीं कुछ भी इसके अलावा
नहीं बदलेगा‌ कुछ 1जनवरी को
नया नहीं होगा कुछ भी !

Nahi-badlega-kuch
डॉ. सम्पूर्णानंद मिश्र

डॉ. सम्पूर्णानंद मिश्र की अन्य रचना पढ़े:

आपको nahi badlega kuch-नही बदलेगा कुछ/सम्पूर्णानंद मिश्र की हिंदी कविता कैसी लगी अपने  सुझाव कमेन्ट बॉक्स मे अवश्य बताए अच्छी लगे तो फ़ेसबुक, ट्विटर, आदि सामाजिक मंचो पर शेयर करें इससे हमारी टीम का उत्साह बढ़ता है।
हिंदीरचनाकार (डिसक्लेमर) : लेखक या सम्पादक की लिखित अनुमति के बिना पूर्ण या आंशिक रचनाओं का पुर्नप्रकाशन वर्जित है। लेखक के विचारों के साथ सम्पादक का सहमत या असहमत होना आवश्यक नहीं। सर्वाधिकार सुरक्षित। हिंदी रचनाकार में प्रकाशित रचनाओं में विचार लेखक के अपने हैं और हिंदीरचनाकार टीम का उनसे सहमत होना अनिवार्य नहीं है।|आपकी रचनात्मकता को हिंदीरचनाकार देगा नया मुक़ाम, रचना भेजने के लिए [email protected] सम्पर्क कर सकते है| whatsapp के माद्यम से रचना भेजने के लिए 91 94540 02444, ९६२१३१३६०९ संपर्क कर कर सकते है।