ha mera desh| हा-मेरा देश/सीताराम चौहान पथिक

ha mera desh : सीताराम चौहान  पथिक की रचना हा-मेरा देश वर्तमान स्थिति हिंदुस्तान की दर्शाता है कि जहां एक रोटी के लिए बचपन श्रम करने के लिए मजबूर है लोग अभी भी भूखे मर रहे है गरीबी का आलम यह है कि तन पर लपेटने के लिए कपड़ा नहीं है मायूसी में किसान और सैनिक खुदखुशी करने पर मजबूर हैं लेखक का सन्देश साफ़ है कि देश में खुशहाली हो अमीर और गरीब में मतभेद न हो हर व्यक्ति को समान्य अवसर मिले प्रस्तुत है रचना ।

 

हा — मेरा देश ।


चेहरे पर मासूमियत, मजबूरी की छाप ,
मुरझाया बचपन चला- बूढ़ी दादी के साथ,
कैसे गुजरेगा ये दिन- कैसे गुजरेगी रात ,
फ़िक्र यही , बस किस तरह बुझे पेट की आग।

हाय — मेरे देश की यह कैसी तक़दीर ,
भूखे मरते इक तरफ-नोटो में तुले अमीर ,
ऐसा कैसे हो गया, हाय- गांधी का देश ॽ
गांधी के बंदर सभी , हंसते बेच ज़मीर ।

देख ग़रीबी देश की , बापू जी गये पसीज ,
किया अलविदा सूट को- लंगोटी पर रीझ ,
बापू बंदर  आपके– बिगड़ गये है तीन ,
तुम्ही सुधारों अब इन्हें – सीखें ज़रा तमीज ।

मायूसी में जी रहा

धरती पुत्र किसान ,
सरहद पर है जूझता-

मन से दुखी जवान ,
किसान और जवान गर,

करें खुदकुशी हाय ,
रहनुमाओं — बुनियाद पर

थोड़ा सा दो ध्यान ।

ना तोलो जात ग़रीब की

इंसानी  फ़र्ज़ निभाओ ,
हे राजनीति के जयचंदो ,

दामन पाकीज बनाओ ,
घुन देश- भक्ति को लगा

तरसती भारत माता ,

दुश्मन के सिर पर चढ़ो , मौत बन जाओ ।

यह देश शूरवीरों का है–
घिघियाने की भाषा छोड़ो ,

दुश्मन ललकार रहा घर में ,

दोनों बाजू उसके तोड़ो ,
राणा प्रताप के भामाशाह ,

आगे बढ़ कर आहुतियां दो ,

जो बिखर गई कड़ियां उनको,

दानशबंदी से फिर जोड़ों ।

कोई भूखा- नंगा ना रहे ,

इंसाफ  और खुशहाली हो ,
बुढ़िया दादी का हाथ पकड़ ,

फिर से ना कोई सवाली हो ,
हो ऐसा हिन्दुस्तान मेरा

हर देश-भक्त भारतवासी ,
ध्वज पथिक तिरंगा फहराये ,

ना कहीं कोई बदहाली हो ।।
ha - mera-desh
सीताराम चौहान पथिक
दिल्ली

अन्य रचना पढ़े :

  1.  शिक्षा का मूल्यांकन 
  2. लाल बहादुर स्मृति दिवस पर कविता 

आपको ha mera desh| हा-मेरा देश/सीताराम चौहान पथिक की हिंदी कविता कैसी लगी अपने सुझाव कमेन्ट बॉक्स मे अवश्य बताए अच्छी लगे तो फ़ेसबुक, ट्विटर, आदि सामाजिक मंचो पर शेयर करें इससे हमारी टीम का उत्साह बढ़ता है।
हिंदीरचनाकार (डिसक्लेमर) : लेखक या सम्पादक की लिखित अनुमति के बिना पूर्ण या आंशिक रचनाओं का पुर्नप्रकाशन वर्जित है। लेखक के विचारों के साथ सम्पादक का सहमत या असहमत होना आवश्यक नहीं। सर्वाधिकार सुरक्षित। हिंदी रचनाकार में प्रकाशित रचनाओं में विचार लेखक के अपने हैं और हिंदीरचनाकार टीम का उनसे सहमत होना अनिवार्य नहीं है।|आपकी रचनात्मकता को हिंदीरचनाकार देगा नया मुक़ाम, रचना भेजने के लिए [email protected] सम्पर्क कर सकते है| whatsapp के माद्यम से रचना भेजने के लिए 91 94540 02444, ९६२१३१३६०९ संपर्क कर कर सकते है।

Jigyasa-जिज्ञासा/सीताराम चौहान पथिक

Jigyasa

जिज्ञासा


कब जीवन की संध्या होगी ॽ
कब जीवन का नव – प्रभात ।
यह अनन्त का गूढ़ प्रश्न है ,
समाधान अब तक अज्ञात ।

चेतन तत्व आत्मा जिसका ,
आदि- ॳत ना ओर ना छोर।
तन विशाल से उड़ा गगन में ,
हुआ विलीन विराट की ओर।

तन्त्र – मंत्र आध्यात्म सभी ,
मानव के आत्म-तत्व पर मौन
कैसी है रहस्यमयी आत्मा ॽ
मॄत्यु बाद ॽ सब साधे मौन ।

कैसा है वह अमर तत्व ॽ
गीता ने परम ब्रह्म बतलाया।
वहीं तत्व मानव में – यद्यपि ,
मानव अमर नहीं बन पाया।

तन निर्जीव — तत्व जब छूटा ,
विज्ञान दीखता है निरुपाय ।
कोई यन्त्र श्वास लौटा दे ,
वैज्ञानिक कर रहे उपाय ।

विज्ञान – यन्त्र कोई ना बना,
जो प्राण – तत्व को लौटा दे।
तन में तन की अद्भुत रचना ,
कैसे सम्भव ॽ यह समझा दे ।

ऐसे अबूझ अनगिनत प्रश्न ,
विज्ञान – शोध चल रही मगर।
कुछ अधर बीच कुछ अनसुलझे ,
जिज्ञासाओं की कठिन डगर।

Jigyasa 
सीताराम चौहान पथिक

सीताराम चौहान पथिक की अन्य रचना पढ़े:

आपको Jigyasa-जिज्ञासा/सीताराम चौहान पथिक  की हिंदी कविता कैसी लगी अपने  सुझाव कमेन्ट बॉक्स मे अवश्य बताए अच्छी लगे तो फ़ेसबुक, ट्विटर, आदि सामाजिक मंचो पर शेयर करें इससे हमारी टीम का उत्साह बढ़ता है।
हिंदीरचनाकार (डिसक्लेमर) : लेखक या सम्पादक की लिखित अनुमति के बिना पूर्ण या आंशिक रचनाओं का पुर्नप्रकाशन वर्जित है। लेखक के विचारों के साथ सम्पादक का सहमत या असहमत होना आवश्यक नहीं। सर्वाधिकार सुरक्षित। हिंदी रचनाकार में प्रकाशित रचनाओं में विचार लेखक के अपने हैं और हिंदीरचनाकार टीम का उनसे सहमत होना अनिवार्य नहीं है।|आपकी रचनात्मकता को हिंदीरचनाकार देगा नया मुक़ाम, रचना भेजने के लिए [email protected] सम्पर्क कर सकते है| whatsapp के माद्यम से रचना भेजने के लिए 91 94540 02444, ९६२१३१३६०९ संपर्क कर कर सकते है।